Pehowa (prithudak) ek tirth-kurukshetra haryana-india

nice

[mOv] My Outer Views

img20181217071204-1767680046.jpgपेहवा एक तीर्थ,

महाराजा पृथु द्वारा बसाया गया प्राचीन स्थान.

पेहवाहरियाणा के कुरक्षेत्र जिले का एक नगर है इस स्थान को पृथुदक के नाम से भी जाना जाता है यह स्थान सरस्वती नदी के तट पर बसा हुआ है तथा कुरुक्षेत्र के 48 कोस परिक्रमा का एक हिस्सा है जिसमें महाभारत का युद्ध हुआ था। कहा जाता है की इस तीर्थ की रचना प्रजापति ब्रह्मा ने पृथ्वी, जल, वायु और आकाश के साथ सृष्टि निर्माण के आरंभ में ही कर दी थी, पर पृथुदक शब्द की उत्पत्ति का सम्बन्ध ( जो आज के समय में पेहवा के नाम से जाना जाता है) महाराजा पृथु से रहा है इस स्थान पर पृथु राजा ने अपने पिता की मृत्यु के पश्चात उनका क्रिया कर्म व श्राद् किया था अर्थात अपने पिता को उदक यानी जल दिया था , पृथुउधक के जोड से यह स्थान तीर्थ पृथुदक कहलाया गया …

View original post 478 more words